संपादकनामा
 
सलिल दलाल | Last Updated: 4/24/2014 4:20:05 PM EST
More From सलिल दलाल

फ़िल्मी कविता के चाहने वालों के लिए पिछले दिनों सबसे अच्छे समाचार थे..... गुलज़ार साहब को ‘दादासाहेब फ़ाळके पुरस्कार’ की हुई घोषणा! वैसे तो फ़रहान अख़्तर की ‘भाग मिल्खा भाग’ या फिर अरशद वारसी की ‘जॉली एल.एल.बी.’ ज... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 4/17/2014 2:57:27 PM EST
More From सलिल दलाल

अप्रैल के महीने में ‘आराधना’ जैसी सुपर हीट फ़िल्म के निर्देशक शक्ति सामंता की याद ताज़ा हो जाती है; क्योंकि २००९ के अप्रैल माह में ही उनका निधन हो गया था। उनकी फ़िल्मों का संगीत अपने दौर का अविस्मरणीय म्युझिक हुआ करता था। हिन्दी फिल्म ... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 4/17/2014 2:47:19 PM EST
More From सलिल दलाल

हिन्दी सिनेमा को जिन अभिनेत्रियों ने अपने तरीके से एक अलग मोड़ दिया है, उनमें जो नाम सब से उपर रखने योग्य है, उस महान कलाकार जया भड़ुड़ी (अब बच्चन) का जन्मदिन अभी ९ अप्रैल के दिन था। जया जी ने हृषिकेश मुखर्जी की 'गुड्डी' से जब हिन्दी फिल्म... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 4/3/2014 6:00:36 AM EST
More From सलिल दलाल

अभिनेत्री नंदा के बारे में पिछले हफ्ते आलेख लिखने के बाद उनकी अंतिम क्रिया में उपस्थित लोगों की संख्या के बारे में जानकर फिर एक बार आंखें नम हुईं। फ़िल्म उद्योग में चढ़ते सूरज को पूजने की जो परंपरा है उस हिसाब से भी उस अभिनेत्री के ज़नाज़े को कंधा... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 4/3/2014 5:52:24 AM EST
More From सलिल दलाल

सिनेमा प्रेमीओं के लिए २५ मार्च का दिन एक ऐसी खबर लेके आया जिस का जरा सा भी अंदेशा नहीं था। उस दिन १९५५ से ’७५ तक के बीस बरस दर्शकों के दिल में अपनी शालिन छवी प्रस्थापित करने वाली अभिनेत्री नंदा का निधन हो गया। इस वर्ष ८ जनवरी को अपनी ७५ ... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 3/20/2014 7:42:28 AM EST
More From सलिल दलाल

कल २१ मार्च है और रानी मुखर्जी का जन्मदिन है। रानी का सदा हंसता खिलखिलाता चेहरा उनके व्यक्तित्व को इतने अच्छे से बयां करता है कि उन्हें दर्शकों के दिल की रानी बनते देर नहीं लगी थी। एक समय पर उनकी फ़िल्मों के गीत-संगीत इतने तो लोकप्रिय हुए थे कि ... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 3/18/2014 4:07:23 PM EST
More From सलिल दलाल

इस हफ्ते होली है और उस दिन रेडियो-टीवी पर से “आया होली का त्योहार उडे रंग की बौछार...” (नवरंग) से लेकर “होली के दिन दिल खिल जाते हैं, रंगों से रंग मिल जाते हैं.... (शोले) जैसे ‘होली गीत’ दिन भर सुनाई देंगे।  ल... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 3/7/2014 1:59:04 AM EST
More From सलिल दलाल

पिछले दिनों ‘विश्व मातृभाषा दिन’ था। तब “दुनिया जिसे कहते हैं, जादु का खिलौना है, मिल जाये मिट्टी है, खो जाये तो सोना है...” ये जगजीत-चित्रा की गाई अदभूत गज़ल लिखने वाले शायर निदा फ़ाज़ली की बडी याद आई। उनकी अन्य एक रचना &l... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 3/2/2014 5:44:21 AM EST
More From सलिल दलाल

आज महाशिवरात्री है और “जय जय शिव शंकर, कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया...” ये गाना रेडियो तथा टीवी पर अनिवार्य रूप से हर साल बजता आया है। और क्युं न बजे? ‘आप की कसम’ के उस गीत को आर. डी. बर्मन ने जिस रिदम मे... >>

सलिल दलाल | Last Updated: 2/7/2014 7:15:14 AM EST
More From सलिल दलाल

इस हफ़्ते फिर एक बार जगजीत सिंह को याद किये बिना रहा नहीं जाता, क्योंकि ८ फ़रवरी को उनकी जन्मतिथि है। जगजीत जी की आवाज़ का जादू आज भी उनकी गाई ग़ज़लों में हमारे साथ ही है। मगर उनके योगदान का अंदाज़ा उनकी उपस्थिति से ज़्यादा अब आ रहा है, जब वे नहीं रहे... >>

123