करे कोई भरे कोई: स्नैपचैट के CEO की करनी भुगति स्नैपडील ने ...
New Delhi , Delhi ,  India , Asia   | अपडेटेड: Monday, Apr 17, 2017 at 10:29 am EST

करे कोई भरे कोई यह कहावत उस समय सच साबित हो गई जब स्नैपचैट के CEO ने भारत को गरीब देश कहा और बदले में लोगों ने स्नैपडील को कर दिया अनइंस्टॉल |
गौरतलब है कि भारतीय बाजार को लेकर स्नैपचैट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इवान स्पीगल  ने भारत को गरीब देश की संज्ञा देते हुए कहा था कि ‘यह एप्प केवल अमीर लोगों के लिए है और भारत और स्पेन जैसे गरीबों देशों में व्यापार के प्रसार में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है|' इस पर विरोध जताते हुए भारत में कई लोगों ने इस सोशल नेटवर्किंग ऐप की जगह गलती से ई-कामर्स एप्प ‘स्नैपडील’ को हटा दिया | इसके साथ ही सोशल मीडिया कम्पनी सीईओ इवान स्पीगल की आलोचनाओं से भर गया | 
और लोगों ने ऐप को अपने सिस्टम से हटाना शुरू कर दिया | लोगों ने कई ऐप स्टोर पर बड़ी संख्या में एप्प को खराब रेटिंग अंक दिया | स्नैपचैट एप्प की समीक्षा करते हुए एक उपयोगकर्ता ने लिखा, ‘‘स्नैपचैट के सीईओ.. आप भारतीयों के फोन देखने के लिए भारत क्यों नहीं आ जाते |’’
दिलचस्प बात यह है, कि कुछ इंटरनेट उपयोगकर्ताओं ने स्नैपचैट को गलती से स्नैपडील समझ कर ई-कॉमर्स एप्प को ही हटा दिया | इस गलती केा सोशल मीडिया पर साझा किये जाने के बाद यह पूरा मामला प्रकाश में आया |



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code
  
अन्य समाचार